अपना (छोटा/बड़ा) होटल खोलें: लागत, आवश्यकताएं, दस्तावेज सूची तथा लाइसेंस व रजिस्ट्रेशन

How to Open/Start Own New Hotel: Investment, Requirements, Documents List, License & Business Registration Process -: अगर कोई एक उद्योग है जिसने पिछले एक दशक में बड़ी गति पकड़ी है, तो वह है “यात्रा और पर्यटन उद्योग”। न केवल देश के भीतर, बल्कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पर्यटन के साथ-साथ व्यावसायिक उद्देश्यों के लिए यात्रा करने वाले अधिक से अधिक लोगों के साथ, एक क्षेत्र जिसने यात्रा और पर्यटन उद्योग में भारी उछाल देखा है, वह है “होटल इंडस्ट्री”। इसका सारा श्रेय वैश्वीकरण जाता है। अब लोग उन आराम और विलासिता के बारे में अधिक जागरूक हो गए हैं जिनकी उन्हें एक अच्छे होटल से अपेक्षा करनी चाहिए। साथ ही, भारत उन अग्रणी देशों में से एक है, जिसका यात्रा और पर्यटन क्षेत्र देश के सकल घरेलू उत्पाद में एक बड़ा योगदान देता है।

वर्तमान प्रवृत्ति के अनुसार, होटल आवास की मांग प्रति वर्ष 6% की दर से बढ़ रही है। हालांकि, इसके विपरीत, आपूर्ति की वृद्धि 3% प्रति वर्ष है। इस प्रकार, होटल उद्योग में एक नया व्यवसाय शुरू करने के इच्छुक लोगों के लिए जबरदस्त संभावनाएं हैं। किसी भी अन्य व्यवसाय की तरह, स्थिर विकास को नियंत्रित करने और निर्देशित करने के साथ-साथ बाहरी निवेशकों और उधारदाताओं से धन प्राप्त करने के लिए पहले अपनी व्यवसाय योजना का एक विस्तृत रोड मैप तैयार करना महत्वपूर्ण है। अपने आज के इस ब्लॉग के माध्यम से हम आपको “How to Start Small Hotel Business in India” से जुड़ी पूरी जानकारी प्रदान कर रहे हैं।

कोरोना-काल के बाद अब हर व्यक्ति अतरिक्त कमाई के लिए स्वरोजगार खोलना चाहते हैं। ऐसे में होटल का काम सबसे कम लागत में अधिक कमाई के लिए सबसे उत्तम है। अपने इस ब्लॉग में हम “अपना होटल कैसे खोलें?, होटल खोलने के लिए लागत, होटल खोलने हेतु आवश्यक दस्तावेज सूची तथा होटल के लिए आवश्यक लाइसेंस और पंजीकरण” से संबंधित सभी जानकारियां साझा करेंगे। यदि आपको जानकारी प्राप्त करने हेतु समस्या आ रही है तो आप नीचे कमेंट के माध्यम से भी हमसे अपना प्रश्न पूछ सकते हैं। साथ ही साथ यदि आप स्वरोजगार के लिए ऋण लेना चाहते हैं तो “प्रधानमंत्री स्वरोजगार योजना” के तहत आवेदन कर सकते हैं। सभी पाठकों से अनुरोध है कि “How to Start/Open Own Hotel?, Investment Required to Start Hotel Business, Strategy for Starting a Hotel Business, Required Documents & How to Apply for Hotel License / Registration Certificate?” से संबंधित सभी दिशा-निर्देश नीचे विस्तारपूर्वक साझा किये गए हैं।

💡 Table of Contents (TOC)

  1. अपना होटल खोलने हेतु FSSAI लाइसेंस पंजीकरण
  2. अपना होटल खोलने के लिए आवश्यकताएं
  3. होटल खोलने हेतु लाइसेंस व रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट
  4. होटल हेतु FSSAI लाइसेंस की फीस व आवश्यक दस्तावेज
  5. अपना होटल खोलने से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1. अपना होटल खोलने हेतु FSSAI लाइसेंस पंजीकरण

Start-Open-Own-Small-Hotel-Business-FSSAI-License-Registration

Online FSSAI License Registration Online for Small Hotel Business -: सभी खाद्य प्रतिबंध और प्रतिष्ठानों यानी सभी छोटे तथा बड़े होटल को FSSAI मानकों के अनुरूप होना चाहिए और FSSAI लाइसेंस प्रमाण पत्र प्राप्त करना चाहिए। यह लाइसेंस किसी भी स्थान के लिए भोजन से संबंधित काम करने वाले एक कानूनी निर्माता और पके हुए और प्रसंस्कृत खाद्य पदार्थों के वितरक होने के लिए सबूत और अनुमति के रूप में कार्य करता है जिन्हें व्यावसायिक रूप से ग्राहकों को उचित दाम पर दिया जाता है।

लाइसेंस इस बात के प्रमाण के रूप में कार्य करता है कि एक स्टार्टअप या एकमात्र स्वामित्व एक वैध व्यवसाय है जो भोजन और पाक वस्तुओं में काम कर रहा है। इस प्रकार यदि वे FSSAI मानकों को पास करते हैं तो व्यवसाय और रसोई घर को FSSAI लाइसेंस प्राप्त करने के लिए FSSAI लाइसेंस पंजीकरण के लिए आवेदन करना होगा।

  • सबसे पहले, होटल लाइसेंस रजिस्ट्रेशन की ऑनलाइन वेबसाइट http://foodlicensing.fssai.gov.in पर जाएं।
  • प्राथमिकता के आधार पर, आपको अपनी पात्रता मानदंड की जांच करनी होगी; जो निम्नलिखित बताई गई है:
    • मूल लाइसेंस – ₹12 लाख तक
    • केंद्रीय लाइसेंस – ₹20 करोड़ से अधिक
    • राज्य लाइसेंस – ₹20 करोड़ तक
  • टर्नओवर के आधार पर, FSSAI लाइसेंस के लिए आवेदन करने वाला व्यक्ति उपरोक्त में से किसी एक के लिए पात्र हो सकता है।
  • उक्त पात्रता के चयन के बाद आपको “साइन-अप (Sign-Up)” विकल्प पर क्लिक करना होगा।
  • अब इस साइन-अप फॉर्म में अपना 10 अंकों का फोन नंबर और ईमेल आईडी के साथ आवश्यक जानकारी इनपुट करनी होगी।
  • अब वेबसाइट पर रजिस्ट्रेशन करने के लिए आपको एक “उपयोगकर्ता नाम / यूजरनेम (Username)” और “पासवर्ड (Password)” का चयन करना होगा।
  • साइन-अप की प्रक्रिया पूरी होने के बाद ही आप FSSAI वेबपेज पर एक अकाउंट बना पाएंगे तथा लॉगिन कर पाएंगे।
  • अपने नए FSSAI खाते के लिए SMS या ई-मेल पुष्टि प्राप्त करने के बाद अब अपने FSSAI अकाउंट में लॉग-इन करें।
  • आपको बताते चलें कि ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करने के बाद आपका अकाउंट केवल 30 दिनों के लिए वैध होगा जिसके बाद एक स्वचालित निष्क्रियता (Self-Deactivate) होती है।
  • खाता उपयोगकर्ता यानी अकाउंट होल्डर (धारक) को एक महीने के पूरा होने के भीतर “FSSAI लाइसेंस के लिए पंजीकरण (Registration for FSSAI License)” करना होगा।
  • अपने FSSAI खाते में लॉग इन करने के बाद https://foodlicensing.fssai.gov.in/index.aspx पर FSSAI लाइसेंस पंजीकरण पर जाएं और प्रासंगिक जानकारी इनपुट करें।
  • साथ ही साथ आपको एक और बात ध्यान में रखनी होगी कि रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया को एक ही बार में पूरा किया जाना चाहिए। बार-बार फॉर्म भरने या जमा करने पर यह अधूरा माना जाएगा और फिर खारिज कर दिया जाएगा, और आपको फिर से प्रक्रिया शुरू करनी होगी।
  • भरे हुए फॉर्म को सबमिट करने से पहले उसकी एक कॉपी बना लें और उसका प्रिंट आउट ले लें।
  • पंजीकरण फॉर्म की एक हार्ड कॉपी रखने से आप अपने द्वारा प्रदान की गई जानकारी को याद रख सकेंगे और भविष्य के संदर्भ में मदद प्राप्त कर सकेंगे।
  • FSSAI के लिए आवेदन करने के बाद, आपको फॉर्म पर एक संदर्भ संख्या यानी एप्लीकेशन नंबर प्राप्त करना होगा।
  • एप्लीकेशन नंबर FSSAI लाइसेंस पंजीकरण फॉर्म स्टेटस को ट्रैक करने में आपकी सहायता करेगा इसलिए से नोट करके रखें।
  • अंत में, पंजीकरण फॉर्म को सफलतापूर्वक प्रिंट करने और प्रिंट आउट लेने के बाद, आपको सभी अतिरिक्त सहायक दस्तावेजों के साथ मुद्रित ऑनलाइन आवेदन पत्र “क्षेत्रीय प्राधिकरण या राज्य प्राधिकरण (State Authority)” को जमा करना होगा।
  • FSSAI लाइसेंस पंजीकरण फॉर्म को ऑनलाइन जमा करने के 15 दिनों के भीतर विधिवत रूप से विचार के लिए जमा करना होगा।

इन चरणों का पालन करके, कोई भी व्यक्ति जो खाद्य व्यवसाय में है, FSSAI खाद्य लाइसेंस के लिए आवेदन और पंजीकरण कर सकता है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार के तहत कदम, FSSAI या खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण 2006 के खाद्य सुरक्षा और मानक अधिनियम के तहत स्थापित एक स्वायत्त निकाय है।

FSSAI सार्वजनिक स्वास्थ्य को बढ़ावा देने और उसकी रक्षा करने के लिए जिम्मेदार है। राज्य स्तर पर खाद्य सुरक्षा प्राधिकरणों की नियुक्ति करके खाद्य सुरक्षा को लागू करना और पर्यवेक्षण करना और विनियमित करना इसी विभाग के अंतर्गत आता है।

2. अपना होटल खोलने के लिए आवश्यकताएं

Requirements to Open/Start Own Hotel Business -: भारत में होटल व्यवसाय एक आकर्षक व्यवसाय विकल्प है, क्योंकि भारत में यहाँ के प्रमुख आकर्षणों और विविध संस्कृति के कारण पर्यटकों की आमद दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। इसलिए, होटल व्यवसाय शुरू करने के लिए लाभदायक व्यवसायों में से एक हो सकता है। भारत में अपना होटल व्यवसाय शुरू करने से पहले यहां कुछ मार्गदर्शन दिया गया है।

  • पहले रणनीति तैयार करें

अपना होटल बिज़नेस खोलने के लिए पहला कदम अपनी व्यावसायिक रणनीति की योजना यानी प्रोजेक्ट बनाना है जो अगले 5 वर्षों के लिए होटल डेवलपमेंट, प्रोजेक्ट का एक स्नैपशॉट देता है। इसमें अनुमानित लक्ष्यों, बाधाओं, उद्योग के विश्लेषण के साथ-साथ निर्धारित लक्ष्यों को पूरा करने के लिए गहन प्रोजेक्ट रिपोर्ट शामिल होनी चाहिए।

जब आप उधारदाताओं से व्यवसाय ऋण प्राप्त करने के लिए अपनी “व्यावसायिक योजना” यानी “प्रोजेक्ट रिपोर्ट (Project Report)” प्रस्तुत करते हैं, तो निवेशक और ऋणदाता आमतौर पर पहले पृष्ठ के माध्यम से जाते हैं और तय करते हैं कि क्या वे और अधिक पढ़ना चाहते हैं, इसलिए आपके बाजार की तरह सभी महत्वपूर्ण जानकारी सामने रखना भी महत्वपूर्ण है। प्रोजेक्ट रिपोर्ट साबित करता है कि एक नए होटल की जरूरत है और आपके उद्देश्यों को पूरा करने के लिए आपके आपके पास पूरा अनुभव है।

  • होटल रिचार्च / उद्योग विश्लेषण

इन दिनों पूरे देश में खोले जा रहे होटलों की संख्या को देखते हुए, यह शुरू में भारी लग सकता है। लेकिन, आपको अपना ध्यान केवल उस होटल क्षेत्र पर केंद्रित करने की आवश्यकता होगी। अपने होटल प्रोजेक्ट के लिए आपको निम्नलिखित बिंदुओं का ध्यान रखना होगा।

  • क्या यह सिर्फ बुनियादी सुविधाओं के साथ छोटा मोटल है?
  • क्या यह एक अपस्केल बुटीक होटल है?
  • या आधुनिक सुविधाओं के साथ एक लक्जरी रिसॉर्ट या 5 सितारा संपत्ति (Five Star Hotel)

आपको सबसे पहले यह तय करने की आवश्यकता होगी कि आप किस स्थान को लक्षित करना चाहते हैं और उसके बाद उस बाजार के स्थान को प्रभावित करने वाले रुझानों और अनुमानों का विश्लेषण करें।

  • कस्टमर / ग्राहक विश्लेषण

जैसा कि कहा जाता है, “ग्राहक बाजार का राजा है”, यहां तक ​​कि होटल उद्योग में भी, यह जरूरी है कि आप अपने लक्षित ग्राहकों की आवश्यकताओं को समझें। आपको निम्न तरह के सवालों के जवाब देखने होंगे कि:

  • आपके होटल को कौन चुन सकता है?
  • क्या वे व्यापार या घूमने या मौज-मस्ती के लिए यात्रा कर रहे हैं?
  • क्या वे बच्चों के साथ यात्रा कर रहे हैं?
  • उनके होटल में कितनी बार आने की संभावना है?
  • उनका आदर्श बजट क्या होगा?
  • उनकी उम्मीदें क्या होंगी?
  • क्या-क्या नवीनतम सुविधाएं दे सकते हैं?
  • होटल के अंदर व बाहरी सजावट सही है?

आपके लिए संभावित ग्राहक की जनसांख्यिकी यानी जहाँ आप होटल खोलना चाहते हैं वहां आने जाने वाले लोगों की जानकारी का पता लगाना और उसके अनुसार उनकी अपेक्षाओं को पूरा करने के लिए एक प्रोजेक्ट तैयार करना महत्वपूर्ण है।

  • प्रतिस्पर्धा (कम्पटीशन) का विश्लेषण

दो प्रकार के प्रतिद्वंद्वी (Competitor) हैं जिनका आपको विश्लेषण करने की आवश्यकता है: प्रत्यक्ष कॉम्पिटिटर में ऐसे होटल शामिल हैं जो आपके बाजार और अप्रत्यक्ष प्रतिस्पर्धियों को लक्षित करते हैं, जिसमें व्यापक क्षेत्र जैसे रेस्तरां और अन्य व्यवसाय शामिल हैं जो आपके बाजार का एक हिस्सा हैं। आपको यह सुनिश्चित करने के लिए एक रणनीति की योजना बनाने की आवश्यकता होगी कि आपके होटल में पेशकश करने के लिए कुछ अनूठा हो।

  • मार्केटिंग की योजना

इसमें चार मुख्य बिंदु शामिल होंगे – उत्पाद, मूल्य, स्थान और प्रचार। उत्पाद आपका होटल और उसकी सेवाएं हैं, कीमत आपके उत्पादों और सेवाओं की दरें हैं, आपके होटल के भौतिक स्थान के साथ-साथ इसकी वेबसाइट या अन्य बुकिंग साइटों पर यह सूचीबद्ध है और प्रचार ग्राहकों को न केवल आकर्षित करने का आपका तरीका है वरन उन्हें फिर से वापस बुलाने के लिए भी एक अच्छा साधन है।

  • होटल का संचालन

आपके अल्पकालिक होटल संचालन में रिजर्वेशन बुकिंग, चेक-इन और चेक-आउट क्लाइंट, लगेज हैंडलिंग, हाउसकीपिंग, अकाउंटिंग आदि के दिन-प्रतिदिन के कार्य शामिल होंगे, जबकि दीर्घकालिक संचालन में वे तरीके शामिल होंगे जिनमें आप अपने लक्ष्यों को पूरा करने की योजना बना रहे हैं जैसे अधिभोग की एक निश्चित दर प्राप्त करना, अधिक रेस्तरां जोड़ना और अधिक आगंतुकों को आकर्षित करने के लिए ऐसी अन्य अतिरिक्त सेवाएं शुरू करना।

  • होटल का प्रबंधन / मैनेजमेंट

एक मजबूत प्रबंधन टीम आपके होटल व्यवसाय की रीढ़ है क्योंकि यह न केवल फाइनेंसरों को आपके उद्यम में पैसा लगाने के लिए मनाएगी, बल्कि संचालन के सुचारू संचालन को भी सुनिश्चित करेगी।

  • होटल के लिए लोन या वित्त पोषण

अंतिम लेकिन कम से कम आपके होटल उद्यम के लिए व्यवसाय ऋण प्राप्त करना नहीं होगा। भारत में होटल क्षेत्र में विकास की संभावना को देखते हुए, डिजिटल एनबीएफसी सहित, एनबीएफसी जैसे विभिन्न ऋणदाता बैंक इस समय बाजार में उपलब्ध हैं। आपको बस अपने होटल की एक प्रोजेक्ट रिपोर्ट बना कर बैंक में जमा करना होगा जिसके आधार पर ही आपका होटल लोन पास होगा।

  • अनुभवी होटल कर्मचारियों की भर्ती

होटल के आकार और आवश्यकता पर निर्भर करता है, कि कितने कर्मचारियों की भर्ती की जानी है। इनमें फ्रंट ऑफिस स्टाफ, हाउसकीपिंग, लाइन मैनेजर, सुपरवाइजर, वेटर आदि शामिल हैं। आप प्लेसमेंट एजेंसियों के माध्यम से या मीडिया में सीधे विज्ञापनों के माध्यम से लोगों की भर्ती कर सकते हैं। इसके अलावा आप लोकल पेपर या किसी अन्य रूप से अपना विज्ञापन भी चला सकते हैं। जहाँ आप होटल खोल रहे हैं कर्मचारियों की भर्ती भी वहीँ से करें।

  • होटल की रेटिंग को बढ़ाना

जब आप नया होटल शुरू करते हैं तो आपको “भारतीय पर्यटन बोर्ड (Indian Tourism Board)” से अपने होटल के लिए रेटिंग प्राप्त करनी होती है। सामान्य रेटिंग 1-, 2-, 3-, 4-,5- हो सकती हैं। अपने होटल को प्रमोट करने से रेवेन्यू बढ़ेगा। इसलिए, आपको भारत और विदेशों में अपने होटल को बढ़ावा देने की पूरी संभावना देखनी होगी।

3. होटल खोलने हेतु लाइसेंस व रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट

Hotel License & Registration Certificate? -: जब आपने होटल शुरू करने का फैसला किया, तो अगला कदम होटल लाइसेंस प्राप्त करना है। यदि आप होटल के भीतर बार/शराब की सुविधा की योजना बना रहे हैं, तो आपको इसके लिए लाइसेंस प्राप्त करने की आवश्यकता है। आपको प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का लाइसेंस भी लेना होगा। यदि आप भी होटल परिसर के भीतर कार्यक्रम आयोजित करने के बारे में सोचते हैं, तो एक अलग लाइसेंस आवश्यक है। अग्नि सुरक्षा, लिफ्ट कार्यों आदि के संबंध में संबंधित अधिकारियों से उचित सत्यापन अनिवार्य है। भारत में होटल चलाने के लिए आवश्यक लाइसेंस की सूची नीचे दी गई है।

  • खाद्य सुरक्षा लाइसेंस – आपको FSSAI (भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण) से मिलेगा
  • स्वास्थ्य / व्यापार लाइसेंस – यह लाइसेंस आपके क्षेत्र में स्थानीय नागरिक प्राधिकरण से प्राप्त किया जा सकता है।
  • ईटिंग हाउस लाइसेंस – यह लाइसेंस आपके शहर के लाइसेंसिंग पुलिस कमिश्नर से प्राप्त किया जा सकता है।
  • शराब लाइसेंस – यदि आप होटल के भीतर बार / शराब की सुविधा की योजना बना रहे हैं तो आपको अपने शहर के स्थानीय आबकारी आयुक्त से इस लाइसेंस की आवश्यकता है।
  • अग्निशमन विभाग का लाइसेंस – यह आपके क्षेत्र में अग्निशमन विभाग से प्राप्त किया जा सकता है।

भारत में होटल व्यवसाय शुरू करने और संचालित करने के लिए कई होटल लाइसेंस पंजीकरण की आवश्यकता होती है। कई Hotel License Registration, होटल शुरू करने से पहले प्राप्त किए जाने चाहिए और होटल के संचालन के दौरान नवीनीकृत (रिन्यूअल) किए जाने चाहिए।

इसके अलावा, अधिकांश लाइसेंस के लिए होटल को वैधता बनाए रखने के लिए कुछ नियमों या मानदंडों को पूरा करने की आवश्यकता होती है। इसलिए, एक होटल व्यवसाय को सुचारू रूप से संचालित करने के लिए होटल व्यवसाय में उद्यमियों के लिए इन लाइसेंसों और पंजीकरणों के बारे में जागरूक होना महत्वपूर्ण है।

लाइसेंस की बहुत सारी आवश्यकताएं होटल के प्रकार, स्टार रेटिंग, सुविधाओं और होटल के स्थान पर निर्भर करती हैं। इसके अलावा, होटल व्यवसाय के लिए लाइसेंस प्राप्त करने के नियम और कानून राज्यों के अनुसार अलग-अलग हैं। अगर आप अपना छोटा खाने-पीने का होटल ही खोलना चाहते हैं तो सके लिए आपको FSSAI लाइसेंस रजिस्ट्रेशन करवाना होगा।

4. होटल हेतु FSSAI लाइसेंस की फीस व आवश्यक दस्तावेज

FSSAI License Fees & Required Documents for Small Hotel -: ऑनलाइन FSSAI पंजीकरण प्रक्रिया को पूरा करते वक़्त आपको कुछ दस्तावेज अवश्य ही अपने पास रखने होंगे। ये दस्तावेज़ आपके वैध खाद्य व्यवसाय को स्थापित करने के प्रमाण हैं। आपको सभी दस्तावेजों की फोटो-कॉपी करवा कर अपने पास रखना होगा तथा स्कैन प्रारूप में ऑनलाइन अपलोड करना होगा। इसके साथ-साथ विभाग द्वारा होटल लाइसेंस के लिए रजिस्ट्रेशन करने हेतु कुछ फीस भी निर्धारित की गई है।

4.1. FSSAI लाइसेंस हेतु दस्तावेज

Required Documents for Hotel License Registration -: FSSAI लाइसेंस पंजीकरण के लिए आवश्यक दस्तावेज इस प्रकार हैं:

  • आपको उस फॉर्म को प्रस्तुत करना होगा जो पूरा हो गया है और रेस्तरां के मालिक या मालिक द्वारा हस्ताक्षरित और प्रमाणित है।
  • मालिक के रूप में, आपको पहचान प्रमाण की आवश्यकता होगी, जैसे आधार कार्ड, मतदाता पहचान पत्र, ड्राइविंग लाइसेंस।
  • रेस्तरां या व्यवसाय के स्थान का पता प्रमाण जो एक सरकारी प्राधिकरण द्वारा जारी किया जाता है।
  • यदि व्यवसाय या कंपनी के अन्य निदेशक और/या शेयरधारक हैं, तो प्रत्येक सदस्य या भागीदार का पहचान प्रमाण भी प्रदान किया जाना चाहिए।
  • एक वैध ईमेल आईडी और एक वैध फोन नंबर जरूरी है। अगर कंपनी या स्टार्टअप के पास खुद का फोन और ई-मेल है, तो ओपनर और स्टार्टअप के ई-मेल और फोन नंबर दोनों ही मुहैया कराने होंगे।
  • खाद्य सुरक्षा प्रबंधन का एक योजना प्रपत्र प्राप्त किया जाना चाहिए और संलग्न किया जाना चाहिए। यदि आपके पास एक नहीं है, तो आप इसे आसानी से निकटतम नोटरी पर जाकर या केवल दस्तावेज़ को ऑनलाइन डाउनलोड करके प्राप्त कर सकते हैं।
  • चूंकि आपका व्यवसाय या स्टार्टअप एक विशिष्ट क्षेत्र या परिसर में होगा, उक्त परिसर के कब्जे का प्रमाण संलग्न किया जाना चाहिए। स्टार्टअप के लिए सेल्स डीड, रेंट एग्रीमेंट, बिजली बिल और इस तरह के अन्य पेश करके परिसर की स्थिति का प्रमाण दिया जा सकता है।
  • एक अन्य दस्तावेज जो आपको चाहिए वह है राष्ट्रीय व्यावसायिक वर्गीकरण या नगर निगम या किसी स्थानीय निकाय से अनापत्ति प्रमाण पत्र।
  • यदि आपके पास एक उन्नत उन्नत रसोई है, तो रसोई की एक मंजिल योजना प्रस्तुत की जा सकती है। यह छोटे स्टार्टअप और किचन पर लागू नहीं होता है।
  • यदि आपके पास कई साझेदार हैं जो आपके साथ भोजनालय या व्यवसाय चलाते हैं, तो साझेदारी विलेख प्रस्तुत किया जाना चाहिए। यदि व्यवसाय किसी अन्य परिसर से संचालित होता है, तो पंजीकरण फॉर्म के साथ स्वामित्व का एक शपथ पत्र भी संलग्न किया जा सकता है।
  • प्रत्येक रसोई और खाद्य व्यवसाय का एक अनूठा विक्रय बिंदु होता है। इसलिए, सुनिश्चित करें कि बाकी आवश्यक दस्तावेजों के साथ खाद्य श्रेणियों की सूची संलग्न है।
  • विभिन्न प्रकार के भारी रसोई उपकरण (यदि कोई हो) की एक सूची भी प्रस्तुत की जानी चाहिए। खासकर अगर खाद्य उद्यम बड़े पैमाने पर विनिर्माण पर ध्यान केंद्रित करता है।

अंत में, स्वच्छता और गुणवत्ता जांच सुनिश्चित करने के लिए सभी कर्मचारियों और भागीदारों के चिकित्सा प्रमाण पत्र प्रदान करने की आवश्यकता है। विभिन्न प्रकार के खाद्य व्यवसायों के लिए सभी दस्तावेज आसानी से उपलब्ध नहीं होंगे। छोटे स्टार्टअप को ऊपर बताए गए कुछ दस्तावेजों की जरूरत नहीं होगी।

FSSAI लाइसेंस पंजीकरण के लिए आप जो भी दस्तावेज प्राप्त कर सकते हैं, उन्हें प्रदान करना आवश्यक है। FSSAI पंजीकरण के चरणों को पूरा करने के बाद, सत्यापन की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी, और यदि आप सभी बॉक्सों की जांच करने का प्रबंधन करते हैं, तो आप अपने प्रदान किए गए ईमेल के माध्यम से अपना FSSAI लाइसेंस प्राप्त करेंगे।

4.2. FSSAI लाइसेंस रजिस्ट्रेशन की फीस

Payment of FSSAI License Registration Fees Online -: अगर आप भी होटल खोलकर स्वरोजगार खोलना चाहते हैं तो आपको पहले कुछ फीस भी जमा करनी होगी। Hotel License Registration की जानकारी निम्नलिखित है:

उत्पादन स्तर शुल्क (प्रति वर्ष)
उत्पादन के प्रति दिन 1 मीट्रिक टन से अधिक ₹5000
1 मीट्रिक टन से कम उत्पादन ₹3000
4 स्टार या उससे कम वाले होटल ₹5000
बाकी खाद्य सेवा प्रदाता (रेस्तरां, बोर्डिंग हाउस, क्लब, कैंटीन, कॉलेज, कार्यालय, संस्थान, भोजन खानपान के साथ बैंक्वेट हॉल, सड़क के किनारे के खाद्य विक्रेता जैसे डब्बावाला और ढाबा और अन्य खाद्य व्यवसाय संचालक) ₹2000

खाद्य सुरक्षा विभाग के अनुसार होटल लाइसेंस रजिस्ट्रेशन फीस में बदलाव किया जा सकता है। सभी कीमतों और अपेक्षित शुल्कों का उल्लेख FSSAI की वेबसाइट http://foodlicensing.fssai.gov.in पर उपलब्ध कराया गया है।

यदि आप भी Hotel License Registration Fees से संबंधित जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से प्राप्त कर सकते हैं। साथ ही साथ आपको यह भी सलाह दी जाती है कि फीस का भुगतान करने के बाद रसीद अवश्य प्राप्त कर लें।

5. अपना होटल खोलने से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

FAQs Related Hotel Business Startup & Food License Registration -: खाद्य उद्योग या होटल खोलने के लिए लाइसेंस के कई अलग-अलग प्रकार होते हैं। कुछ छोटे होटल के लिए होते हैं, जबकि कुछ अन्य अधिक महत्वपूर्ण उद्यम के लिए। होटल व्यवसाय खोलने या जारी रखने के लिए FSSAI खाद्य लाइसेंस प्राप्त करना महत्वपूर्ण है।

नए FSSAI फूड लाइसेंस का शुल्क मैन्युफैक्चरर्स/मिलर्स द्वारा प्रोडक्शन या टर्नओवर के आधार पर अलग-अलग होता है। अपना होटल खोलने से संबंधित अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्नों के उत्तर निम्नलिखित हैं:

A. क्या होटलों के लिए FSSAI लाइसेंस अनिवार्य है?

सरकार द्वारा जारी किये गए आदेश में कहा गया है, “लाइसेंसिंग मानदंड के अनुसार, फाइव स्टार और उससे ऊपर की रेटिंग वाले होटलों को केंद्रीय लाइसेंस की आवश्यकता होती है और 12 लाख रुपये से अधिक टर्नओवर वाले होटलों को राज्य लाइसेंस की आवश्यकता होती है।”

B. होटल खोलने से पहले कौन से लाइसेंस प्राप्त करने की आवश्यकता है?

रेस्तरां और होटलों के लिए आमतौर पर स्थानीय स्वास्थ्य विभाग से स्वास्थ्य व्यापार लाइसेंस की आवश्यकता होती है। स्वास्थ्य व्यापार लाइसेंस आमतौर पर नगर निगम द्वारा जारी किए जाते हैं। स्वास्थ्य व्यापार लाइसेंस उन व्यवसायों के लिए आवश्यक है जिनका सार्वजनिक स्वास्थ्य पर सीधा प्रभाव पड़ता है।

C. गेस्ट हाउस या होटल लाइसेंस क्या है?

छोटे से मध्यम आकार के होटलों को FSSAI राज्य लाइसेंस प्राप्त करने की आवश्यकता होती है। FSSAI State License राज्य सरकार द्वारा उन होटलों के लिए जारी किया जाता है, जिनका संचालन सिर्फ एक राज्य में होता है और जिनका वार्षिक कारोबार ₹12 लाख से अधिक है। लाइसेंस न्यूनतम 1 वर्ष से लेकर अधिकतम 5 वर्ष तक की अवधि के लिए प्राप्त किया जा सकता है।

D. अपना होटल के नियम क्या हैं?

होटल नियम / हाउस नियम प्रबंधन नीतियां या अतिथि और होटल के बीच समझौते हैं। आमतौर पर, इन नीतियों का उल्लेख अतिथि पंजीकरण कार्ड पर किया जाता है, जिस पर चेक-इन के समय अतिथि द्वारा हस्ताक्षर किए जाते हैं।

E. होटल कानून क्या है?

यह सुनिश्चित करने के लिए आतिथ्य कानून बनाए गए थे कि रेस्तरां, होटल, मोटल और अन्य सार्वजनिक आवास अपने प्रतिष्ठानों के भीतर अपने संरक्षकों की भलाई सुनिश्चित करने के लिए सुरक्षा उपाय प्रदान कर रहे हैं।

HindiProcess.Com वेबसाइट पर आने का धन्यवाद्। यदि आपको ऊपर दी गई जानकारी से सम्बंधित कोई भी सहायता चाहिए तो कृपया हमें नीचे कमेंट के माध्यम से अवश्य बताएं। हमारी टीम आपकी जल्द से जल्द मदद करने का पूरा प्रयास करेगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top