भारत में नया श्रम कानून (अधिनियम/कोड विधेयक) संशोधन 2022: Hindi PDF Download

New Labour Law In India | New Labour Law In India 2022 In Hindi | New Labour Law In India 2022 PDF | New Labour Law Amendments 2022 | Latest Labour Law Amendments In India 2022 | New Labour Law In India Hindi PDF | नया श्रम कानून 2022 | नए श्रम कानून ड्राफ्ट | संसोधित श्रम कानून 2022 | नया श्रम कानून 2022 पीडीएफ | नया श्रम कानून संसोधन

New Labour Law/act/code Bill / Amendment In India 2022: Working Hours, Effective Date, New Labour 2021, Hindi PDF And PPT Download => प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार 1 अक्टूबर से नया श्रम कानून 2022 / New Labour Law 2022 लेकर आ रही है तथा पुराने में बदलाव करने जा रही है। नए लेबर लॉ 2022 के नियमों / New Labor Law 2022 Rules में बदलाव के लिए सरकार अब पूरी तरह से तैयार है जिसे जल्द ही लागू कर दिया जायेगा। नए श्रम कानून के लागू होते ही नौकरियों में कार्यरत लोगों का कार्यालय (ऑफिस) में काम करने का समय बढ़ा दिया जायेगा।

सरकार द्वारा जारी अध्यादेश के अनुसार अब ऑफिस में 12 घंटे तक काम करना होगा। इसके साथ-साथ अब इन हैंड सैलरी  / In-Hand Salary यानी जो वेतन (तनख्वा) आपको हाथ में या आपके सैलरी अकाउंट में मिलती थी उस पर भी प्रभाव पड़ेगा। आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको अपने इस लेख में नए श्रम कानून नियम 2022 / New Labour Law Rules 2022 के बारे में जानकारी प्रदान करते हैं कि यह किस तरह से आपकी नौकरी पर प्रभाव डालेगा।

💡 Table of Contents (TOC)

  1. संसोधित नया श्रम कानून 2022 क्या है?
  2. Increase in Gratuity & PF under Labour Act 2022
  3. नए श्रम कानून 2022 में बढ़ेंगे काम के घंटे
  4. Retirement Amount Increment under New Labour Law 2022
  5. Allowances Included in New Labour Law Draft 2022
  6. 48 घंटे एक सप्ताह के लिए कार्य समय निर्धारित
  7. Download New Labour Law 2022 PDF Hindi

संसोधित नया श्रम कानून 2022 क्या है?

 

New Labour Law Rule Amendment PDF Hindi

What is New Labour / Labor Law 2022 Amendment -: केंद्र सरकार द्वारा जारी किये गए नए श्रम कानून ड्राफ्ट नियम 2022 / New Labour Law Draft Rule 2022 के अनुसार आपको जो मूल वेतन यानी सैलरी मिलती है वह अब आधी हो जाएगी। नए लेबर लॉ ड्राफ्ट 2022 / New Labour Law Draft 2022 के मुताबिक 1 अक्टूबर से हर कर्मचारी का जो मूल वेतन होगा वह पूरे वेतन का केवल 50% या उससे थोड़ा सा अधिक होगा।

इसके साथ साथ नए श्रम कानून 2022 के अंतर्गत कर्मचारियों के काम करने के घंटों को भी बढ़ा दिया गया है। ड्राफ्ट में दी गई जानकारी के अनुसार अब ऑफिस में काम करने वाले कर्मचारियों को 9 घंटे की जगह 12 तक काम करना होगा। इसके साथ-साथ जो आपको इन-हैंड-सैलरी यानी महीने के आखिर में जो अकाउंट या में हाथ वेतन प्राप्त होता है उसमे भी बदलाव होंगे।

नए श्रम कानून ड्राफ्ट नियम 2022 में जारी अध्यादेश के अनुसार अब कर्मचारियों का जो मूल वेतन होगा वह कुल मिलने वाले वेतन का आधा यानी केवल 50 फीसदी ही होगा। इस नियम के लागू होते ही देश में ऑफिस में काम करने वाले कार्मिकों के वेतन ढाँचे में बहुत बड़ा बदलाव आएगा। सैलरी में दिया गैर-भत्तों का हिस्सा केवल वेतन के 50% या उस से कम रखा जायेगा। इसके अल्वा अलावा सैलरी में दिए जाने वाले अन्य भत्तों में भी बदलाव किये जायेंगे अर्थात इसे बढ़ा दिया जायेगा।

Increase in Gratuity & PF under Labour Act 2022

श्रम कानून 2022 के तहत ग्रेच्युटी और पीएफ में बढ़ावा -: नए श्रम कानून 2022 / New Labour Act 2022 Hindi PDF के तहत एक फायदा भी होगा। आपको मिलने वाले मूल वेतन यानी टोटल सैलरी (Total Salary) में पीएफ (PF) हिस्से को बढ़ा दिया जायेगा। मूल वेतन को बढ़ने से पीएफ में भी वृद्धि होगी।

इसका मतलब यह है कि हैंड-टू-हैंड सैलरी (Hand-to-Hand Salary) यानी हाथ में मिलने वाला वेतन या तक-होम सैलरी (Take Home Salary) यानी घर ले जाने वाले वेतन में कटौती कर दी जाएगी।

भारत में श्रम कानूनों में संशोधन 2022 / Labor Laws Amendments in India श्रम कानून ड्राफ्ट 2022 / New Labour Law Draft 2022 के लागू होने से एक फायदा भी होगा। कर्मचारियों की ग्रेच्युटी और पीएफ (Gratuity & PF) में योगदान राशि बढ़ जाएगी। इससे कर्मचारी के सेवानिवृत्ति यानी रिटायर होने के बाद मिलने वाली धनराशि स्वतः ही बढ़ जाएगी।

ज्यादा सैलरी पाने वाले एम्प्लोयी के वेतन ढांचे में अधिक परिवर्तन देखने को मिलेगा और इस वर्ग के कर्मचारी नया श्रम कानून 2022 के लागू होने से अधिक प्रभावित होंगे।

नए श्रम कानून 2022 में बढ़ेंगे काम के घंटे

Work Hours will Increase After New Labour Law 2022 Implementation -: आपको बताते चलें कि नए श्रम कानून के मसौदे के मुताबिक अब 8 या 9 घटों की जगह 12 घंटे तक कार्यालय में काम करने की अवधि को बढ़ने के लिए प्रस्ताव रखा गया है। इसके अलावा ओएससीएच कोड के मसौदा नियम / OSCH Code Draft Rule के अंतर्गत जो कर्मचारी 15 मिनट से 30 मिनट के बीच ओवरटाइम करता है तो उसे आधे घंटे का ओवरटाइम ही माना जायेगा।

देश में अभी लागू श्रम कानून के अंतर्गत आधे घंटे या उस से कम के काम करने वाले कर्मचारियों को ओवरटाइम का लाभ नहीं मिलता है। इस समय अवधि में किये गए काम को नियोक्ताओं व कंपनियों द्वारा ओवरटाइम नहीं माना जाता है।

इस नए श्रम कानून नियम 2022 / New Labour Law Rules 2022 के तहत कर्मचारियों के लिए एक और सुविधा भी दी गई है। इस ड्राफ्ट में यह निर्देश भी शामिल किये गए हैं कि अब किसी भी कर्मचारी से 5 घंटे से ज्यादा काम नहीं करवा सकते हैं। 5 घंटे लगातार काम के बाद हर कर्मचारी को आधे घंटे यानी 30 मिनट का आराम देना अनिवार्य है।

Retirement Amount Increment under New Labour Law 2022

नए श्रम कानून 2022 के तहत सेवानिवृत्ति राशि में वृद्धि -: नए श्रम कानून के मौसोदे में यह साफ़ कर दिया गया है कि ग्रेच्युटी और पीएफ में हर कर्मचारी का योगदान बढ़ेगा।

इनमें योगदान की बढ़ोत्तरी से रिटायरमेंट यानी सेवानिवृत्ति के बाद मिलने वाली राशि में भी बढ़ोत्तरी होगी। इस बढ़ी हुई राशि से कर्मचारी अपनी सेवानिवृत्ति के बाद आरामदायक जीवन व्यतीत कर सकता है।

इसके तहत बड़े पदों पर काम करने वाले कर्मचारियों की वेतन संरचना में काफी हद तक परिवर्तन आएगा जिससे उनकी आय में काफी बड़ा बदलाव आएगा।

ग्रेच्युटी व पीएफ के योगदान के बढ़ने से कंपनियों व नियोक्ताओं का खर्चा और लागत अधिक बढ़ जाएगी। इनमें कर्मचारी के योगदान का बढ़ावा होने से कंपनियों को भी उतनी ही राशि कर्मचारी के ग्रेच्युटी और पीएफ में डालनी होगी। यह कंपनियों की मासिक व सालाना की बैलेंस शीट पर काफी प्रभाव डालेगा।

Allowances Included in New Labour Law Draft 2022

नए श्रम कानून ड्राफ्ट 2022 में शामिल भत्ते -: नए श्रम कानून 2022 के सबसे बड़े प्रभावों में से एक टेक-होम वेतन पर होगा, जिसके कम होने की उम्मीद है, इस तथ्य के कारण कि सरकार भविष्य निधि (पीएफ) और अन्य सेवानिवृत्ति के बाद की अन्य योजनाओं के लिए बढ़ते योगदान पर नजर गड़ाए हुए है।

नए श्रम कानून 2022 / New Labour Act 2022 जल्द ही लागू होने की उम्मीद है, जो नियोक्ताओं को अपने कर्मचारी मुआवजे को संशोधित करने के लिए मजबूर करेगा।

वेतन संहिता 2019 / Wages Codes 2019 के अनुसार, किसी कर्मचारी को भुगतान की जाने वाली मजदूरी में मूल वेतन और महंगाई भत्ता (डीए) और प्रतिधारण भुगतान शामिल हैं। इसलिए, अन्य पारिश्रमिक जैसे पीएफ योगदान, बोनस, पेंशन, एचआरए, ग्रेच्युटी, ओवरटाइम, आदि मजदूरी की परिभाषा के अंतर्गत नहीं आते हैं।

48 घंटे एक सप्ताह के लिए कार्य समय निर्धारित

One Week Work Time is 48 Hours Only -: इस नए कानून संसोधन के अनुसार अब कर्मचारियों को पूरे हफ्ते में केवल 48 घंटे ही काम करना होगा। भारत में नया श्रम कानून 2022 पीडीएफ / New Labour Law in India 2022 PDF के तहत नियोक्ता या कम्पनियाँ इन 48 घंटों के काम को या तो 4 दिन, 5 दिन या हफ्ते के 6 दिन में करवा सकते हैं।

यानी इस हिसाब से भारत में संसोधित श्रम कानून 2022 / Labor Law Amendment India 2022 में यह खुली छूट कंपनियों की दी गई है कि वह अपने कर्मचारियों को सप्ताह में 2 दिन या 1 दिन का अवकाश दे सकते हैं।

नए श्रम कानून के अंतर्गत अब एक साल में छुट्टियों को बढ़ाया जा सकता है। अब कर्मचारियों को 240 छुट्टियों की जगह बढ़कर 300 छुट्टियां मिल सकती हैं। इस मुद्दे हेतु कई मौकों पर कर्मचारियों द्वारा मांगे उठाई गई थी। श्रम संहिता में बदलाव / Labour Codes Amendment के तहत श्रम मंत्रालय व श्रम संघ के अधिकारीयों द्वारा कई बड़े उद्योगों के अधिकारीयों से बात की है।

Download New Labour Law 2022 PDF Hindi

नया श्रम कानून 2022 पीडीएफ हिंदी डाउनलोड करें -: यदि आपको ऊपर दी गई जानकारी में कोई शंका है तो आप इस नए श्रम कानून 2022 का हिंदी पीडीफ भी डाउनलोड कर सकते हैं। हम नीचे आधिकारिक विज्ञप्ति व New Labour Law Draft Hindi PDF Download करने के लिए लिंक प्रदान कर रहे हैं।

HindiProcess.Com पर आने के लिए आपका धन्यवाद्। अगर यह जानकारी आपको पसंद आई तो इसे शेयर जरूर करें।

1 thought on “भारत में नया श्रम कानून (अधिनियम/कोड विधेयक) संशोधन 2022: Hindi PDF Download”

  1. बेनामी

    सरकार के नय कानून मे किसी भी मजदूर का तनखाह कितनी होगी कभी चर्चा नही किया गया है मै तो कहता हु की सरकारी गद्दी पर बैठने वाले लोगो को MLA,MP, विधायक और मंत्रियो को पेंसन बंद कर सबसे पहले 12 घंटे काम करने की कानून बनाया जाए तथा इनके बेतन मे कटौती कर देश के बिकाश जैसे हॉस्पिटल कॉलेज खोला जाए क्योकि इन मंत्रियों की सैलरी बहुत ज्यादा होती है और प्राइवेट मे काम करने वाले की सैलरी बहुत कम होती है की उनका जीवन गुजरना भी मुश्किल हो जाता ये भाजपा सरकार इतनी निकमी और नालायक है की रोजगार देने के बजाए मजदूरों को शोसन करने और देश लूटने मे लगी हुई है

Leave a Comment

Your email address will not be published.

Scroll to Top