नई योजना

10/recent/ticker-posts

भारतीय डिजिटल करेंसी CBDC क्रिप्टोकरेंसी क्या है | RBI Central Bank Digital Currency

RBI On Cryptocurrency | Cryptocurrency Bill 2022 | भारतीय डिजिटल करेंसी क्या है | Virtual Currency In India | What Is Digital Currency | What is Central Bank Digital Currency | What is CBDC | Is India launching digital currency | Is there any Indian cryptocurrency | When did digital currency launch in India | Does India have a CBDC | भारत की डिजिटल करेंसी

21वीं सदी में तकनीक का विकास दिन प्रतिदिन तेज होता जा रहा है। आज के समय में हमारे देश के नागरिक कम समय में अधिक धन कमाना चाहते हैं। इसके लिए वे शेयर बाजार, ट्रेडिंग, क्रिप्टोकरंसी आदि के जरिए पैसा लगाकर कमाई करते हैं। आज के समय में डिजिटल करेंसी / Digital Currency यानी ऑनलाइन मुद्रा / Online Currency के नाम से भी जाना जाता है। यह क्रिप्टो करेंसी यानी डिजिटल करेंसी भी हम रूप से प्रचलित मुद्राओं के समान ही होती है। भारत की केंद्र सरकार जल्द ही अमेरिकी डॉलर पर हमारे देश की निर्भरता आपको अब समाप्त कर देगा।

भारत की केंद्र सरकार देश की अर्थव्यवस्था को और ऊंचा उठाने के लिए भारतीय मुद्रा यानी रुपया को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक नई पहचान दिलाई जाएगी। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (आरबीआई) / Reserve Bank of India (RBI) यानी भारतीय रिजर्व बैंक इस साल के अंत तक डिजिटल करेंसी यानी डिजिटल मुद्रा को लॉन्च करने वाली है। यह सब वर्ष दिसंबर तक भारतीय रिजर्व बैंक आधिकारिक तौर पर डिजिटल करेंसी को लॉन्च / Indian Digital Currency Launch करेगा। अपने आज के लेख में हम आपको भारत सरकार द्वारा जारी की जाने वाली इस डिजिटल मुद्रा यानी करेंसी की विस्तारपूर्वक पूरी जानकारी प्रदान करेंगे।

    ★ इसे भी देखें ➣ तीन कृषि (संशोधन) बिल/कानून ★

    भारतीय डिजिटल करंसी 2022 लॉन्च कार्यक्रम

    Launch Program of Indian Digital Currency 2022

    RBI CBDC Central Bank Digital Currency in India

    Bhartiya Digital Mudra Ka Udghatan:- भारतीय रिजर्व बैंक के अन्य आरबीआई के गवर्नर श्री शशिकांत दास जी द्वारा डिजिटल करेंसी को इस साल के अंत तक लांच करने के लिए ब्लू प्रिंट तैयार कर दिया गया है। 

    अब हमारे देश में भी क्रिप्टोकरंसी की तरह अपने भारतीय डिजिटल करेंसी / India Digital Currency इस्तेमाल की जाएगी। यह डिजिटल करेंसी हमारे देश की अर्थव्यवस्था को गति प्रदान करेगा तथा इसे ऊपर उठाने के लिए प्रयास करेगा। भारतीय डिजिटल करेंसी / Indian Digital Currency की संक्षिप्त जानकारी नीचे बिंदुओं के माध्यम से प्रदान की गई है।

    • करेंसी का नाम - भारतीय डिजिटल करंसी
    • लॉन्च किया गया - भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा
    • योजना का उद्देश्य - देश की अर्थव्यवस्था को और ऊंचा उठाना
    • करेंसी का लाभ - देश के लिए डिजिटल करेंसी लांच करके अमेरिकी डॉलर पर निर्भरता समाप्त करना
    • आधिकारिक वेबसाइट - उपलब्ध नहीं है 
    • ऑफिशल नोटिफिकेशन - यहां क्लिक करें
    • करेंसी के लाभार्थी - देश के आम नागरिक

    ★ इसे भी देखें ➣ उ०प्र० जनसंख्या नियंत्रण कानून बिल ★

    क्या है भारतीय डिजिटल करेंसी 2022?

    What is Indian Digital Currency 2022?

    Bharat Ki Online Currency Kya Hai:- केंद्र में भारतीय जनता पार्टी की सत्ता आने के बाद देश के विकास तथा अर्थव्यवस्था को ऊपर उठाने के लिए कई कार्यक्रम तथा योजनाओं को लांच किया गया है। केंद्र की भाजपा सरकार चाहती है कि हमारे देश की अर्थव्यवस्था का समग्र विकास किया जा सके। हालांकि देश में कालाबाजारी तथा भ्रष्टाचारी को रोकने के लिए केंद्र सरकार ने पहले ही नोटबंदी लागू कर दी थी। केंद्र सरकार को इसके जरिए यह उम्मीद थी कि देश में गलत कार्यों के लिए प्रयोग होने वाला धन अथवा काला धन समाप्त कर दिया जाए।

    नोटबंदी के बाद देश की अर्थव्यवस्था में कई गुना इजाफा हुआ। दलाली, कालाबाजारी तथा भ्रष्टाचार को रोकने के लिए केंद्र सरकार द्वारा निरंतर प्रयास किए जा रहे हैं। उन प्रयासों में से एक प्रयास डिजिटल करेंसी / Digital Currency लांच करना भी है। भारत की सरकार भारतीय रिजर्व बैंक / Reserve Bank of India यानी आरबीआई / RBI के जरिए ऑनलाइन मार्केट में इंडियन डिजिटल करेंसी को लॉन्च करने के लिए पूरी योजना बना चुकी है। आधिकारिक सूत्रों के अनुसार भारतीय डिजिटल करेंसी / Digital Currency in India को 2022 वर्ष के अंत तक शुरू कर दिया जाएगा।

    देश में पारंपरिक बैंकिंग पद्धति पुरानी करेंसी यानी रुपये पर आधारित है। भारत की सरकार चाहती है कि लेन-देन के सभी कार्यों के लिए निकट भविष्य में एक ऐसी मुद्रा का प्रयोग किया जाए जिसके जरिए लेनदार तथा देनदार दोनों के लिए प्रक्रिया पारदर्शी रहे। इसी चरण में केंद्र सरकार द्वारा सेंट्रल बैंक डिजिटल करंसी / Central Bank Digital Currency यानी सीबीडीसी / CBDC को शुरू किया गया है जिसे एक क्रांतिकारी तथा रचनात्मक पहल भी बताया गया है। देश के अर्थशास्त्रियों के मुताबिक सीबीडीसी यानी सेंट्रल बैंक डिजिटल करंसी देश की अर्थव्यवस्था को ऊपर उठाने में काफी मदद करेगी।

    ★ इसे भी देखें ➣ वोटर आईडी को आधार से लिंक करें ★

    डिजिटल करेंसी हेतु अर्थशास्त्रियों के बयान

    Statements of Economists for Digital Currency

    Digital Currency Ke Liye Arthshatriyon Ke Bayan:- सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी यानी सीबीडीसी के लिए देश के जाने माने अर्थशास्त्रियों ने कई कयास लगाए हैं। कुछ अर्थशास्त्रियों का मानना है कि इस करेंसी के जरिए देश के आर्थिक विकास में मदद मिलेगी। वहीं दूसरी तरफ कुछ अर्थशास्त्री मानते हैं कि डिजिटल करेंसी के माध्यम से देश में लेनदेन की व्यवस्था पर काफी बुरा असर पड़ेगा। 

    सरकार को इस डिजिटल करेंसी को सुरक्षित रखना होगा। डिजिटल करेंसी एक ऑनलाइन करेंसी है यानी इसमें ऑनलाइन गड़बड़ी अथवा हैकिंग के कई आसार होते हैं। अगर इस करेंसी को सही ढंग से सुरक्षा नहीं दी गई अथवा सुव्यवस्थित तरीके से इस्तेमाल नहीं किया गया तो कंप्यूटर के जानकार आसानी से हैकिंग करके आपके बैंक अकाउंट को साफ कर सकते हैं।

    सभी संभावनाओं को ध्यान में रखते हुए भारत की केंद्र सरकार द्वारा आरबीआई के माध्यम से भारतीय डिजिटल करेंसी / Digital Currency in India लांच करने का फैसला कर लिया गया है। आरबीआई के मुख्य गवर्नर श्री शशिकांत दास जी के मुताबिक शुरू में डिजिटल करेंसी को लॉन्च करने के लिए एक पायलट प्रोग्राम चलाया जाएगा। इसे डिजिटल मुद्रा ट्रायल कार्यक्रम / Digital Currency Trial Programme का नाम दिया गया है। श्री शशिकांत जी के अनुसार भारत की सरकार द्वारा यह एक बहुत महत्वपूर्ण फैसला लिया गया है। इसके जरिए भारतीय मुद्रा भी वैश्विक बाजार में अपना एक अलग स्थान बना पाएगी।

    ★ इसे भी देखें ➣ PM कुसुम सौर ऊर्जा पम्प सब्सिडी ★

    सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) क्या है?

    What is CBDC i.e. Central Bank Digital Currency?

    Central Bank Digital Currency i.e. CBDC Kya Hai:- आज के समय में हम अपने चारों ओर डिजिटल करेंसी की भूमिका को आसानी से देख सकते हैं। भारत के नागरिक नई तकनीकों को सीख कर इसके जरिए आमदनी प्राप्त करना अभी सीख रहे हैं। विशेषज्ञों ने दावा किया है कि भविष्य में भारत के हर नागरिक के पास अपने डिजिटल करेंसी होगी। सेंट्रल बैंकिंग डिजिटल करेंसी यानी सीबीडीसी एक ऑनलाइन यानी आभासी मुद्रा (Digital Currency) के रूप में काम करेगा। रिजर्व बैंक के माध्यम से इसे 2022 वर्ष के अंत यानी दिसंबर महीने तक मार्केट में लांच कर दिया जाएगा।

    इस करेंसी की सबसे खास बात यह होगी कि केंद्र सरकार द्वारा इसे पूरी मान्यता दी जाएगी। इसके साथ-साथ कई संस्थानों तथा कंपनियों के माध्यम से इस डिजिटल करंसी को खर्च किया जा सकता है। देश की कई जानी-मानी वित्तीय संस्थाएं भी इस भारतीय डिजिटल करेंसी / India Digital Currency का समर्थन करेंगी। यह करेंसी भौतिक मुद्रा के समान ही होगी लेकिन इसे खाते से हार्ड कॉपी करेंसी के रूप में नहीं निकाला जा सकता है। ज्ञानी अगर आपको भविष्य में कुछ खरीददारी या किसी सेवा के लिए भुगतान करना होगा तो आप इस डिजिटल करेंसी का इस्तेमाल कर सकते हैं।

    ★ इसे भी देखें ➣ नया श्रम कानून (संशोधन) ★

    भारतीय डिजिटल करेंसी की विशेषताएं

    Features of Indian Digital Currency

    Bhartiya Digital Currency Ki Visheshta:- जैसा कि अब तक उम्र पढ़कर आप जान ही गए होंगे कि आखिरकार यह डिजिटल करेंसी है क्या और कैसे कार्य करती है। नीचे दिए गए बिंदुओं के माध्यम से हम आपको इसकी कुछ विशेषताओं के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी दे रहे हैं। हमारे सभी आगंतुकों से अनुरोध है कृपया सभी बिंदुओं को अवश्य ही ध्यानपूर्वक पढ़ें।

    • यह करेंसी भारत सरकार द्वारा रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया यानी आरबीआई के अंतर्गत इलेक्ट्रॉनिक करेंसी के रूप में लांच की जाएगी।
    • इस करेंसी को सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी यानी सीबीडीटी का नाम दिया गया है।
    • सीबीडीसी करेंसी को आरबीआई के जरिए कॉइन करेंसी के रूप में भी लॉन्च किया जा सकता है।
    • जो नागरिक इस करेंसी के जरिए लेनदेन करेंगे उन्हें केवल कंप्यूटर, लैपटॉप अथवा स्मार्टफोन के जरिए ही प्रक्रिया को पूरा करना होगा।
    • यह एक डिजिटल करेंसी यानी इलेक्ट्रॉनिक करेंसी है जिसके अंतर्गत लेनदेन करने के लिए आपको इंटरनेट की आवश्यकता होगी।
    • भौतिक यानी हार्ड कॉपी करंसी के जैसे ही डिजिटल करेंसी लेनदेन के लिए इस्तेमाल की जा सकती है तथा इसके लिए कोई ऊपरी सीमा नहीं है।
    • करेंसी को कई प्रकार के नाम जैसे डिजिटल मनी, साइबरकैश, डिजिटल करेंसी आदि के नाम से जाना जाता है।

    साथियों, ऊपर दी गई जानकारी को पढ़कर आप यह तो जान ही गए होंगे कि आखिरकार डिजिटल करेंसी क्या है (What Is Digital Currency)। भविष्य में इस मुद्रा के जरिए ही सभी लेनदेन किए जाएंगे। इसके साथ-साथ यह मुद्रा भौतिक मुद्रा की तरह कहीं खो नहीं सकती है। डिजिटल करेंसी का बैलेंस अपने खाते में देखने के लिए आपको बस एक सक्रिय इंटरनेट की आवश्यकता ही होगी।

    ★ इसे भी देखें ➣ EWS प्रमाण पत्र ऑनलाइन ★

    भारत में क्यों जरूरी है डिजिटल करेंसी?

    Why Digital Currency Required in India?

    Bharat Me Digital Currency Kyu Jaruri Hai:- भाइयों बहनों, अपने लेखक के इस भाग में हम आपको ईश्वर डिजिटल करेंसी की महत्ता के बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी प्रदान कर रहे हैं। कृपया नीचे बताए गए सभी बिंदुओं को ध्यान से पढ़ें।

    लगेगी भ्रष्टाचार पर लगाम

    डिजिटल करेंसी के जरिए देश में भ्रष्टाचार में भी कमी होगी। इस मुद्रा के जरिए लेनदेन बिल्कुल पारदर्शी तरीके से किया जाएगा। सरकार के पास पूरी जानकारी होगी कि किस भारतीय नागरिक द्वारा डिजिटल करेंसी का प्रयोग किस सेवा अथवा प्रयोजन के लिए इस्तेमाल किया गया है। 

    इसके साथ-साथ यह कई प्रकार की समस्याओं जैसे हवाला, मनी लॉन्ड्रिंग, चोरी, डकैती, लूट टेररिस्ट फंडिंग आदि से भी काफी निजात मिलेगी। क्योंकि यहां मुद्रा एक डिजिटल मुद्रा है जिसको भारतीय सरकार बड़ी आसानी से प्राप्त करेगी।

    नकली तथा फेक करंसी पर रोक

    सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी यानी सीबीडीसी के जरिए देश में शेख तथा नकली मुद्राओं के आदान-प्रदान पर भी रोक लगेगी। इसके जरिए आसानी से केंद्र सरकार करेंसी को ट्रैक करके या पता लगा सकती है कि इसका प्रयोग सही कार्य के लिए किया जा रहा है या नहीं। पिछले कुछ समय में नकली मुद्राओं का चलन काफी बढ़ गया है। फेक करंसी भारतीय सरकार के लिए काफी सिरदर्द बनी हुई है।

    भौतिक मुद्रा या फिजिकल करेंसी के तौर पर किसी भी प्रकार के लेनदेन के लिए डिजिटल करेंसी का प्रयोग किया जाएगा। आज के समय में चीन तथा अमेरिका जैसे बड़े विकसित देश अंतरराष्ट्रीय बाजार में डिजिटल करेंसी पर अपना आधिपत्य जमाए हुए हैं। भविष्य में वैश्विक बाजार में भारत की इस डिजिटल करंसी की भी अपनी एक अलग पहचान होगी। इसके जरिए अंतरराष्ट्रीय बाजार में प्रतिस्पर्धा और तेज हो जाएगी। कुछ अर्थशास्त्रियों का मानना है कि वैश्विक बाजार में प्रतिस्पर्धा बढ़ने की वजह से भारत को काफी नुकसान हो सकता है।

    वैश्विक बाजार में अमेरिकी डॉलर को टक्कर

    अपने अलग डिजिटल करेंसी को शुरू करके भारत सरकार चाहती है कि वैश्विक बाजार में भी हमारे देश का सिक्का स्थापित हो। आज की अर्थव्यवस्था में भारत की मुद्रा रुपए कि अमेरिकी डॉलर के ऊपर निर्भरता है। केंद्र सरकार चाहती है कि डॉलर के ऊपर निर्भरता को खत्म कर दिया जाए। वैश्विक मार्केट में भारत की अपनी डिजिटल करेंसी यानी ऑनलाइन मुद्रा आने से इंटरनेशनल मार्केट में ट्रेडिंग करना आसान हो जाएगा।

    यह मुद्रा भारत की अर्थव्यवस्था को वैश्विक बाजार के पटल पर अपना एक अलग स्थान बनाएगी। इस मुद्रा से विश्व बाजार में होने वाले कालाबाजारी तथा भ्रष्टाचार से निजात मिलेगी। अन्य देशों से लेनदेन तथा व्यापार के लिए भारत सरकार इसी मुद्रा का प्रयोग करेगी। इसके प्रयोग से भारत की अर्थव्यवस्था में भौतिक मुद्रा की कमी को पूरा किया जा सकता है। जहां मुद्रा उपभोक्ताओं को रियल टाइम पेमेंट यानी सही समय पर भुगतान की सुविधा प्रदान करेगी।

    ★ इसे भी देखें ➣ प्रधानमंत्री मुद्रा योजना ऋण ★

    भारतीय डिजिटल करेंसी के क्या लाभ हैं?

    What Are the Benefits of Indian Digital Currency?

    Bharat Ki Digital Currency Ke Kya Labh:- भारत सरकार द्वारा दिसंबर में लांच की जाने वाली डिजिटल करंसी यानी ऑनलाइन मुद्रा के कुछ लाभ नीचे हमने बिंदुओं के माध्यम से दर्शाए हुए हैं।

    • यह डिजिटल करेंसी पूरी तरह से ऑनलाइन होगी तथा उपभोक्ताओं को आपसी लेनदेन अथवा भुगतान के लिए इंटरनेट की मदद से प्रक्रिया को पूरा करना होगा।
    • इसके जरिए उपभोक्ता वास्तविक समय भुगतान यानी रियल टाइम पेमेंट की सुविधा प्राप्त कर सकता है।
    • इस करेंसी के रखरखाव प्रबंधन तथा आदान-प्रदान की प्रक्रिया में बहुत कम लागत तथा समय लगता है।
    • भारतीय बाजार तथा अंतरराष्ट्रीय बाजार में लेनदेन तथा उत्पादों की खरीद फरोख्त के लिए सेंट्रल बैंक डिजिटल करंसी यानी सीबीडीसी का प्रयोग किया जा सकता है।
    • यह करेंसी हर संभव प्रयास के जरिए सुरक्षित रखी जाएगी। इसकी चोरी या लूटपाट का खतरा नहीं रहेगा।
    • डिजिटल मुद्रा / Digital Mudra के जरिए भारत की अर्थव्यवस्था तीव्र गति से ऊपर उठेगी।
    • वैश्विक बाजार में डिजिटल मुद्रा के जरिए भारत में अपनी एक अलग पहचान बनाएगा।
    • इसके जरिए पुरानी परंपरागत बैंकिंग प्रणाली को अपडेट किया जाएगा तथा नई तकनीकों का प्रयोग करके उपभोक्ताओं के लिए प्रक्रिया को सुगम किया जाएगा।

    साथियों, ऊपर दी गई जानकारी पढ़कर तो आ गया जान ही गए होंगे कि भारत में डिजिटल करंसी कब लांच होगी तथा कैसे लागू की जाएगी। हाल ही में अपने आसपास आप भी इस चीज को महसूस कर सकते हैं कि अब आम नागरिक पर डिजिटल यानी ऑनलाइन करंसी जैसे क्रिप्टो करेंसी बिटकॉइन शेयर मार्केट ट्रेडिंग आदि में अपनी दिलचस्पी दिखा रहे हैं। इसका सबसे बड़ा कारण यह है कि इन मुद्राओं के जरिए उपभोक्ताओं को कम समय अवधि के अंतर्गत अधिक लाभ प्राप्त हो जाता है।

    डिजिटल करेंसी से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए आपको हमारी वेबसाइट पर आते रहना होगा। इस वर्ष के अंत में जैसे ही भारत सरकार द्वारा इस करेंसी को घरेलू बाजार तथा वैश्विक बाजार में उतारा जाएगा हम आपको अपने वेबसाइट के माध्यम से तुरंत सूचित कर देंगे। केंद्र सरकार द्वारा अभी इस करेंसी को पूरे देश में लागू करने के लिए रोड मैप बनाया जा रहा है। यदि आप डिजिटल करंसी से जुड़ी अन्य कोई जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो कृपया हमसे नीचे कमेंट के माध्यम से अवश्य संपर्क करें।

    भारतीय डिजिटल करेंसी / Indian Digital Currency के लिए भारत की सरकार द्वारा कोई अभी आधिकारिक दस्तावेज जारी नहीं किया गया है। यदि आप ई-रूपी के बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो कृपया नीचे दिए लिंक पर जाएं।

    e-RUPI New Digital Payment Instrument

    Indian Digital Currency Notification

    ★ इसे भी देखें ➣ किसान मानधन पेंशन योजना ★

    हमसे संपर्क करें (Contact Us)

    कृपया इस जानकारी को अवश्य ही शेयर करें ताकि अधिक-से-अधिक लोगों को इस जानकारी का लाभ प्राप्त हो सके। यदि आपका कोई प्रश्न है तो हमसे नीचे कमेंट बॉक्स में अवश्य पूछें।

    सभी राज्यों व केंद्र सरकार की योजनाओं व प्रक्रियाओं की जानकारी के लिए हमारी वेबसाइट पर आते रहें। हमारी वेबसाइट को बुकमार्क करना न भूलें।

    HindiProcess.Com पर आने का धन्यवाद्।

    एक टिप्पणी भेजें

    0 टिप्पणियाँ